Student Ka Full Form क्या होता है? student ka full form

Rate this post

स्टूडेंट का फुल फॉर्म, स्टूडेंट का फुल फॉर्म हिंदी में, full form of student, student full form, full form student, student ka full form in hindi-

Student Ka Full Form kya hota hai- हर एक इन्सान के लिए उसका विद्यार्थी जीवन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। वह अपने उस पड़ाव में सबसे बेहतरीन समय बिताता है, बहुत सारे पलों को जीता है और कई सारे सच्चे दोस्त बनाता है। हमारे विद्यार्थी जीवन में कोई ऐसा पल या फिर कोई ऐसा व्यक्ति ज़रूर होता है जिसे हम चाह के भी भुला नहीं पाते हैं।

सबका विद्यार्थी जीवन उसके बचपन से शुरू हो जाता है।हमारा विद्यार्थी जीवन ही हमें सब कुछ सिखाता है और बताता है। हर एक इन्सान का विद्यार्थी जीवन एक मकान की नींव की तरह होता है। अगर किसी मकान की नींव कमज़ोर होती है तो, उस पर बनाये जाने वाला घर बहुत जल्दी ही ढह जाता है। उसी तरह अगर कोई इन्सान अपने विद्यार्थी जीवन को सही तरह से उपयोग नहीं करता है, तो उसका पूरा जीवन सही से नहीं गुज़रता।

स्टूडेंट का फुल फॉर्म (Student Ka Full Form) हर एक विद्यार्थी को ज़रूर जानना चाहिए, जिससे की वह स्टूडेंट का सही मतलब समझकर उसको अपने विद्यार्थी जीवन में प्रयोग कर सके और एक अच्छा और सफल स्टूडेंट बन सके।

स्टूडेंट का फुल फॉर्म – Student Ka Full Form in Hindi?

हर एक छात्र का जीवन मनोरंजन से भरा हुआ होता है। और कुछ अपनी जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। अगर आप एक विद्यार्थी हैं, तो आपने और भी बहुत से विद्यार्थियों को देखा होगा जो किसी न किसी चीज़ में सबसे आगे रहे होंगे, जैसे की – कुछ विद्यार्थी पढ़ाई में अच्छे होते हैं, कुछ खेल में अच्छे होते हैं और कुछ बाकी कई सारी गतिविधियों में अच्छे होते हैं।

विद्यार्थी खुद ही में एक पूरा शब्द है, जिसका वास्तव में कोई फुल फार्म तो नहीं है, लेकिन जो चीज़े एक अच्छे और गुणवान विद्यार्थी मे होनी चाहिए उसे देखते हुए विद्यार्थी का फुल फॉर्म बनाया गया है। तो चलिए जानते हैं। Studend Ka Full Form निचे दिए गए सारे गुण एक अच्छे विद्यार्थी में ज़रूर होने चाहिए-:

Full Form of Student in English and Hindi?

S T U D E N T

S-smart:-होशियार

T-truthfulness:-सच्चाई

U-unity:-एकता

D-discipline:- अनुशासन

E-energy:-ऊर्जा

N-neat and clean:-साफ सुथरा

T-talented:-प्रतिभावान

S T U D E N T

S – Studious {अध्ययनशील}

T – Training {प्रशिक्षण}

U – Understanding {समझ}

D – Discipline {अनुशासन}

E – Energetic {शक्तिशाली}

N – Nurture {पालन – पोषण करना}

T – Talented {प्रतिभावान}

S T U D E N T

  • S – Study {अध्ययन}
  • T – Truthfulness {सच्चाई}
  • U – Unity {एकता}
  • D – Discipline {अनुशासन}
  • E – Energy {ऊर्जा}
  • N – Neat & Clean {साफ और स्वच्छ}
  • T – Treasure {खजाना}
  • S T U D E N T 
  • S – Studious {अध्ययनशील}
  • T – Talkative {बातूनी}
  • U – United {यूनाइटेड}
  • D – Determined {निर्धारित}
  • E – Educated {शिक्षित}
  • N – Notable {प्रसिद्ध}
  • T – Tolerant {सहिष्णु}

S T U D E N T

  • S – Simplicity {सादगी}
  • T – Truthful {ईमानदार}
  • U – Understanding {समझ}
  • D – Discipline {अनुशासन}
  • E – Education {शिक्षा}
  • N – Nationality {राष्ट्रीयता}
  • T – Timing {समय}

S T U D E N T

  • S – Sensitive {संवेदनशील}
  • T – Thoughtful {सावधान}
  • U – Understanding {समझ}
  • D – Desirous {इच्छुक}
  • E – Effortful {प्रयत्नशील}
  • N – Normal {साधारण}
  • T – Talent {प्रतिभा}

स्टूडेंट का हिंदी में क्या मतलब होता हैं? What is the meaning of student in Hindi

स्टूडेंट का मतलब हिंदी में होता है विद्यार्थी, यानी विद्या को ग्रहण करने वाला। विद्या ग्रहण करने की कोई उम्र नहीं होती, हर एक इन्सान किसी भी उम्र में विद्या हासिल कर सकता है और तब भी वह एक विद्यार्थी ही कह लायगा।

स्टूडेंट अपना आने वाला समय आपने विद्यार्थी जीवन से ही में बना पाता है। एक अच्छे विद्यार्थी के लिए अपने जीवन में सबसे ज़यादा ज़रूरी उद्देश्य यह होना चाहिए कि वह अपने आने वाले भविष्य को कैसे उज्जवल बना सकता है और भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए क्या क्या कार्य कर सकता है।

एक अच्छे और सच्चे विद्यार्थी को अच्छे से पढ़ाई करनी चाहिए ताकि वह अपने आने वाली पीढ़ी को भी पढ़ा सके और पढ़ाई का महत्व बता सकें।क्योंकि आज के समय में पढ़ाई हर एक के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।

अगर एक पढ़ा-लिखा व्यक्ति हो और दूसरा व्यक्ति ऐसा हो जिसने पढ़ाई नहीं करी है तो हम उन दोनों में आसानी से अंतर बता सकते हैं क्योंकि उनमें एक सबसे बड़ा अंतर है वह पढ़ाई का अंतर है जो कि बहुत ही साफ साफ दिखता है।

अच्छा विद्यार्थी पढ़ाई में तो अच्छा होता ही है लेकिन साथ ही साथ उसे अन्य चीज़ो में भी एक्सपर्ट होना चाहिए। जैसे कि खेलकूद में और स्कूल में जो एक्टिविटीस होती है उसमें।

video credit by:- Mehul Jain

स्टूडेंट किसे कहते हैं? what is the student called

स्टूडेंट उसे ही कहते हैं जो विद्या को ग्रहण करता है।एक अच्छे स्टूडेंट का अर्थ यह होता है कि वह अपनी पढ़ाई मन लगाकर करता है जो उसके पास साधन होते  हैं, उसको अच्छे से इस्तेमाल करता है और अपने भविष्य को उज्जवल बनाने में लगा रहता है।

स्टूडेंट का जीवन कठिनाइयों से भरा हुआ होता है। जब वह बचपन में छोटी कक्षा में होता है, तब उसे इतनी चिंता नहीं होती। लेकिन जब धीरे-धीरे वाह ज़्यादा कक्षा में जाने लगता है, तो उसको अपने आसपास के लोगों को देखकर बड़ी घबराहट होने लगती है।

वह सोचने लगता है कि क्या मुझे यही करना चाहिए? या वो करना चाहिए?अब मैं क्या करूंगा? अब मुझे क्या करना चाहिए, उसके दिमाग में बहुत सारे सवाल होते हैं। और वह कभी कभी बहुत भ्रमित हो जाता है।

लेकिन भविष्य में सफल वही विद्यार्थी होता है जो मेहनत से पढ़ाई करता है और बहुत सारी कठिनाईयों का सामना करता है। ऐसे विद्यार्थी ही हर मुमकिन कोशिश करके अपनी सफलता को हासिल कर लेते हैं।

जिंदगी में अगर कोई फल हासिल करना है तो वह बिना मेहनत के नहीं मिलता है। मेहनत के साथ ही एक विद्यार्थी अपने लक्ष्य को पूरी तरह से प्राप्त कर सकता है और अपने भविष्य को बहुत ही बेहतरीन बना सकता है।

स्टूडेंट लाइफ कैसी होनी चाहिएHow Should Student Life Be

student ka full form in hindi
student ka full form in hindi

एक विद्यार्थी की लाइफ बहुत ही सादा और अनुशासन से भरी होनी चाहिए। उसे हमेशा सच्चाई के रास्ते में चलना चाहिए और समान्य तरीके से बितानी चाहिए।विद्यार्थी को हमेशा अपने कर्तव्य को समझना चाहिए और उसका अच्छे से पालन करना चाहिए। अपने माता पिता द्वारा दिए गए साधनों का सही तरीका से उपयोग करना चाहिए।

उसे महिलाओं का सम्मान करना आना चाहिए और साथ ही साथ अपने परिवार और खुद के भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए। अपने माता पिता और गुरु का सम्मान और आदर करना चाहिए। यह गुण हर एक आदर्श विद्यार्थी में होने चाहिए।

विद्यार्थी को अपना दिमाग बेकार की चीज़ो में नहीं लगाना चाहिए उसे बस अपना ध्यान पढ़ाई ही में लगाना चाहिए विद्यार्थी मे एकता की भावना होनी चाहिए और उसे सबकी मदद भी करनी चाहिए। हमेशा विद्यार्थी को आत्मविश्वासी होना चाहिए।

एक अच्छा विद्यार्थी अपने परिवार के बाद अपने देश के विकास के बारे मे सोचता है और उसकी प्रागति के बारे में सोचता है। वह ऐसे कार्य में योगदान देने का सोचता है जिससे की देश का विकास हो सके।

आज के दौर में कोइ भी इन्सान बहुत जल्दी ही किसी भी के कहने में आजाता है। और बुरे कामों मे लग जाता है। जो कि विद्यार्थी के भविष्य के लिए बहुत ही नुकसानदायक हो सकता है। इसीलिए एक विद्यार्थी के अन्दर समझदारी,सादगी और सावधानी ज़रूर होनी चाहिए।

ताकि वह आगे चलकर पढ़ाई के रास्ता से न हटे और कोई गलत रास्ता न अपना ले। कोई भी कार्य को करने के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहना ही एक बेहतरीन विद्यार्थी का मुख्य लक्ष्य होना चाहिए।

एक बेहतरीन जीवन गुज़ारना के लिए विद्यार्थी को यह अहम कार्य करने चाहिए-:

  • नींद में लापरवाही नहीं करनी चाहिए 
  • खेलकूद से दूर नहीं भागना चाहिए 
  • स्वास्थ्य एवं खानपान का ध्यान रखना चाहिए 
  • किसी एक विषय का मास्टर बन्ने की कोशिश करनी चाहिए 
  • पढ़ाई के साथ साथ ही पाठ्यचर्या कार्यकर्ता में भी भाग लेना चाहिए

स्टूडेंट और परिश्रम?

विद्यार्थी और परिश्रम ये दो शब्द आपस में जुड़े हुए है। जो विद्यार्थी जीवन में जितना परिश्रम करता है, वह  जीवन में उतना ही सफल होता है। विद्याध्ययन काल को साधना काल माना जाता है। इसमें विद्यार्थी दुनिया की सारी आकिर्षत चीज़ो से मुक्त होकर अपना सारा ध्यान सिर्फ और सिर्फ पढ़ाई हासिल करने में लगाता है। हालांकि एक आदर्शवादी और मेहनती विद्यार्थी को बिल्कुल ऐसा ही होना चाहिए। 

आज कल ज़्यादातर लड़के और लड़कियां एक साथ एक ही स्कूल में पढ़ाई करते हैं। जिसके कारण दोनों में बहुत ज़्यादा ही दोस्ती हो जाती है, तो एक अच्छा विद्यार्थी वही है जो इस दिशा में जाने से बचे और केवल पढ़ाई पर ही ध्यान दें।

एक कहावत है जो कि आप सबने ज़रूर कही न कही  ज़रूर सुनी होगी-धन, स्वास्थ्य और चरित्र में से चरित्र का सबसे ज़्यादा महत्व होता है। खोया हुआ या फिर गंवा जाने दिया वाला पैसा तो फिर से कमा लिया जाता है।

और बीमारी को दवा व अच्छे पौष्टिक आहार के द्वारा ठीक किया जा सकता है। लेकिन अगर एक बार आपके चरित्र पर कोई बात आ गई या फिर आपका चरित्र खराब हो गया, तो वह शायद ही वापस आ पायेगा। इसीलिए विद्यार्थियों को हमेशा सबसे पहला महत्व अपने चरित्र के उत्पादन को देना चाहिए। 

स्टूडेंट को अपना समय कहाँ बिताना चाहिए?

हर एक विद्यार्थि को अपना समय अच्छे से बिताना चाहिए। समय को बरबाद नहीं करना चाहिए। एक टाइम टेबल बनाना चाहिए कि उसे दिन में क्या क्या कार्य करने है और क्या कार्य नहीं करने है। विद्यार्थि की लाइफ बहुत ही वयस्क होती है। स्कूल जाना, फिर घर आकर ट्यूशन जाना, खुद पढ़ना और बाकी के अन्य कार्य करना।

बहुत सी ऐसी चीज़े होती है जिससे विद्यार्थि का ध्यान भटक जाता है और उसका दिल पढ़ाई से वनचित हो जाता है, फिर वह पढ़ाई में ध्यान नहीं दे पाता है। जिसमे से एक बहुत बड़ा कारण है मोबाइल।आजकल हर एक घर में एक स्मार्टफोन मौजूद है बल्कि हर एक विद्यार्थी के पास एक स्मार्टफोन मौजूद है। मोबाइल से हमारी कई सारी परेशानियां दूर हो गई है।

और हमारे बहुत सारे काम भी आसान हुए हैं। यह विद्यार्थियों का काम भी आसान करता है। उनकी पढ़ाई में भी मदद करता है। अगर किसी भी विद्यार्थी को कोई टॉपिक नहीं समझ में आता है तो वह तुरंत ही इंटरनेट पर जाकर उस टॉपिक को सर्च करता है और उस से रिलेटेड कई सारे रिज़ल्ट उसको मिल जाते हैं।

इस चीज़ से विद्यार्थियों को पढ़ने में बहुत ही आसानी हो गई है। लेकिन दूसरी ओर ही इस मोबाइल की कुछ खराबीयां भी है जैसे कि अगर कोई विद्यार्थी इंटरनेट पर पढ़ रहा है तो कभी-कभी कुछ ऐसे एडवर्टाइजमेंट आ जाते हैं कि विद्यार्थियों का दिमाग उसी में लग जाता है, और फिर वह वही सर्च करने लगते है,उसी के बारे में पड़ने लगते है, वही देखने लगते है।

और वह एडवर्टाइजमेंट किसी भी तरीके का हो सकता है। अच्छा भी हो सकता, बुरा भी हो सकता। कुछ ऐसी भी एप्लीकेशंस होती है जिनसे विद्यार्थियों का बहुत ही समय बर्बाद होता है। तो अच्छा विद्यार्थी वही है जो अपने आप पर कंट्रोल करें और फालतू की एप्लीकेशन को ना ही यूज़ करें। अपना दिमाग सिर्फ पढ़ाई में ही लगाए।

अच्छे विद्यार्थी को केवल अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए, सुबह जल्दी उठकर सैर करनी चाहिए, एक्सरसाइज करनी चाहिए, अपने खाने-पीने का ध्यान रखना चाहिए और  समय पर भोजन करना चाहिए।

साथ ही साथ खेलकूद में भाग लेना चाहिए क्योकि इससे शरीर हमेशा फिट रहता है और अध्ययन में भी ध्यान लगाना चाहिए। पुस्तकें व समाचार पत्र पढ़ने चाहिए। जिससे अच्छे संस्कार प्राप्त हो और ग्यान भी बड़े। पुस्तकें हमेशा ही से मनुष्य की सच्ची मित्र होती हैं। अच्छी पुस्तकें पढ़ने से अच्छे विचार आते हैं। 

स्टूडेंट के मित्र व आचरण कैसा होना चाहिए?

विद्यार्थी के पास अच्छे आचरण ज़रूर होने चाहिए।उसे अपने बड़ों और साथ ही साथ छोटो का आदर और सम्मान करना चाहिए। हमेशा अच्छी और साफ-सुथरी भाषा का प्रयोग करना चाहिए। हमेशा अच्छी संगति में रहना चाहिए और मित्र बनाने से पहले उसके गुणों और अवगुणों को देख लेना चाहिए।

इन्हे भी पढ़े?

GST का फुल फॉर्म?
PhD का फुल फॉर्म?
स्टूडेंट का फुल फॉर्म क्या हैं?
KYC का फुल फॉर्म?
UPI का फुल फॉर्म?

निष्कर्ष?

तो ये था स्टूडेंट का फुल फॉर्म (Student Ka Full Form), स्टूडेंट का मतलब क्या है, स्टूडेंट लाइफ कैसी होनी चाहिए, स्टूडेंट के मित्र व आचरण कैसा होना चाहिए, स्टूडेंट को अपना समय कहाँ बिताना चाहिए और कहाँ नहीं बिताना चाहिए।

इस लेख के माध्यम से आपको स्टूडेंट के बारे में हर एक जानकारी देने की कोशिश करी गई है। आशा करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर यह आपके लिए यूजफुल रहा हो तो इसे अपने दोस्त और अन्य सोशल मीडिया प्लेट फॉर्म पर जरूर शेयर करे धन्यवाद।

2 thoughts on “Student Ka Full Form क्या होता है? student ka full form”

Leave a Comment